ब्रेकिंग: 78 लाख पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, टेंशन की खत्म 

EPFO ने 78 लाख पेंशनभोगियों के लिए डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र (डीएलसी) और फेस ऑथेंटिकेशन टेक्नोलॉजी (FAT) को अपनाया, जिससे वे अपने स्मार्टफोन से घर बैठे ही जीवन प्रमाण पत्र जमा कर सकते हैं। इस सुविधा से बैंकों और डाकघरों में जाने की जरूरत खत्म हो गई है।

rohit

Written by Rohit Kumar

Published on

ब्रेकिंग: 78 लाख पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, टेंशन की खत्म 

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने अपने 78 लाख से अधिक पेंशनभोगियों के जीवन को सरल बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। पहले पेंशनभोगियों को हर साल अपने जीवन प्रमाण पत्र (जीवन प्रमाण पत्र) को जमा करने के लिए बैंकों में जाना पड़ता था, जिसमें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। लेकिन अब इस प्रक्रिया को डिजिटल कर दिया गया है, जिससे पेंशनभोगियों को बड़ी राहत मिली है।

डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र (DLC) का शुभारंभ

ईपीएफओ ने 2015 में डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र (डीएलसी) को अपनाया, जिससे पेंशनभोगियों को भौतिक प्रमाण पत्र जमा करने की आवश्यकता नहीं रही। इसके तहत, पेंशनभोगियों को बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से डीएलसी जमा करने के लिए किसी भी बैंक, डाकघर, कॉमन सर्विस सेंटर या ईपीएफओ कार्यालय में जाना पड़ता था।

फेस ऑथेंटिकेशन टेक्नोलॉजी (FAT) की शुरुआत

हमारे व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पेंशनभोगियों की समस्याओं को और कम करने के लिए, MeitY और UIDAI ने फेस ऑथेंटिकेशन टेक्नोलॉजी (FAT) विकसित की है, जिसे EPFO ने जुलाई 2022 में अपनाया। इस तकनीक से पेंशनभोगी अपने घर बैठे ही अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके डीएलसी जमा कर सकते हैं। अब बुजुर्गों को बैंकों या डाकघरों में जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

कैसे करें उपयोग?

पेंशनभोगी अपने स्मार्टफोन में “आधार फेस आरडी” और “जीवन प्रमाण” एप्लिकेशन इंस्टॉल करके इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। फेस स्कैन के बाद, यूआईडीएआई के आधार डेटाबेस से प्रमाणीकरण किया जाता है और डीएलसी जमा होने की पुष्टि मोबाइल स्क्रीन पर दिखती है।

Latest Newsसरकार का पेंशनधारकों को तोहफा, पेन्शनभोगी ऐसे बढ़वाये अपनी पेंशन और लाखों रुपए का Arrear लें

सरकार का पेंशनधारकों को तोहफा, पेन्शनभोगी ऐसे बढ़वाये अपनी पेंशन और लाखों रुपए का Arrear लें

बढ़ता उपयोग

2022-23 में 2.1 लाख पेंशनभोगियों ने फेस ऑथेंटिकेशन तकनीक का उपयोग करके डीएलसी जमा किया, जो 2023-24 में बढ़कर 6.6 लाख हो गया। इससे तकनीक के उपयोग में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 2023-24 में कुल डीएलसी का लगभग 10 प्रतिशत एफएटी आधारित था।

जागरूकता और निर्देश

EPFO ने सभी क्षेत्रीय कार्यालयों को विस्तृत निर्देश जारी किए हैं और पेंशनभोगियों को नई पद्धति के बारे में जागरूक करने के लिए ‘निधि आपके निकट’ कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इससे अधिक से अधिक पेंशनभोगियों को इस सुविधा का लाभ मिल सकेगा।

EPFO का मानना है कि इस सुविधा से पेंशनभोगियों का जीवन आसान हो जाएगा और वे बिना किसी परेशानी के अपने जीवन प्रमाण पत्र जमा कर सकेंगे।

Latest Newsबिग ब्रेकिंग, केंद्रीय कर्मचारियों के लिए DOPT ने जारी किया आदेश, आठवें वेतन आयोग की सिफारिश के साथ नए नियम लागू

बिग ब्रेकिंग, केंद्रीय कर्मचारियों के लिए DOPT ने जारी किया आदेश, आठवें वेतन आयोग की सिफारिश के साथ नए नियम लागू

9 thoughts on “ब्रेकिंग: 78 लाख पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी, सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, टेंशन की खत्म ”

  1. सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न है ये है कि सरकार के निर्देश पर EPFO ने बढी हुई पेंशन पाने हेतु 2014 के बाद के ही सेवानिवृत्त कर्मचारी/ अधिकारी लिए है उसके पूर्व वाले वही 800-1000 पा रहे है ये कितना शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण है कि सरकार मजदूरो किसानो को वर्ष मे हजारो रूपये खैरात बांट रही और जिसने 25-30 नौकरी की उन्हे पेंशन के नाम पर हर महीने 800-1000 ही मिल रहे वाह री सरकार और उसकी सोच सबकी पेंशन बढा दी गई EPFO-95 वाले आस लगाते लगाते कितने स्वर्ग सिधार गये ‼️

    प्रतिक्रिया
  2. हम 1171 रुपए औसत पेंशन में जिंदा रहेंगे तब ना तो जमा करेंगे लाइफ सर्टिफिकेट, औसत 200पेंशनर रोज मर रहे हैं किसी त्रासदी से कम नहीं है भाई 9 11 82 से लेकर के जून 2016 तक मैंने सर्विस किया मुझे 2697 रुपए पेंशन मिलती है ₹5000 का दवाई खाता हूं कैसे मेरा गुजारा चलता है ईश्वर ही जानता है और मैं जानता हूं और क्या लिखूं आप कुछ समझ में नहीं आ रहा है जय जगन्नाथ

    प्रतिक्रिया
  3. सरकार सभी वर्ग के लोगों किसान, ओबीसी,एससी, ,
    एसटी, मजदूर का ख्याल रख रही है सभी लोगों को मुफ्त अनाज मुफ्त दवाइयां एवं मंथली पेंशन एवं किसान निधि दे रही है किन्तु प्राईवेट जाब वालों के लिए कुछ भी नहीं कर रही है मैं सन 1990 से 1998 तक एक कंपनी में काम किया कंपनी का दो भाईयों में बंटवारा हो गया मुझे दूसरे ग्रुप में ट्रांसफर कर दिया नये नाम की कंपनी में उस कंपनी ने सन् 2010 में अपना सारा कारोबार समेट लिया उस कंपनी ने मेरी तीन महीने की सैलरी एवं एक्सपेंस करीब एक लाख खा गई एवं 18 साल की नौकरी का ग्रेजुएटी भी नही दिया मेरी पेंशन रुपए 759/ मिलती है क्या इस राशि से बुढ़ापे में मुझ पति पत्नी का गुजारा संभव है सरकार का प्राईवेट जाब वालों के ऊपर कोई ध्यान नहीं दे रही है बस भगवान ही मालिक है।

    प्रतिक्रिया

Leave a Comment

हमारे Whatsaap चैनल से जुड़ें