पेंशनधारकों के लिए केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जारी किया जरूरी नंबर, दूर हो जाएगी आपकी सारी परेशानी!

केंद्र सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों और पेंशनधारकों के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। अब एक टोल-फ्री नंबर जारी किया गया है, जिससे उनकी सभी समस्याएं हल की जा सकेंगी। इस हेल्पलाइन के जरिए पेंशन, कानूनी मुद्दों, और अन्य सहायता के लिए तुरंत मदद प्राप्त करें।

rohit

Written by Rohit Kumar

Published on

पेंशनधारकों के लिए केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जारी किया जरूरी नंबर, दूर हो जाएगी आपकी सारी परेशानी!

आप सभी को यह जानकारी दे दे की केंद्र सरकार के द्वारा देश के वरिष्ठ नागरिकों और पेंशनधारकों के लिए एक खास सुविधा प्रारंभ की है। अगर किसी भी वरिष्ठ नागरिक एवं पेंशनधारक को किसी भी प्रकार की परेशानी होती है तो आप केवल एक नंबर पर कॉल कर सकते है। देश में वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस टोल फ्री नंबर की शुरुआत की है। इस नंबर की जानकारी केंद्र सरकार के द्वारा ट्वीटर के जरिए दी गई है। आइए इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करे।

केंद्र सरकार ने Senior Citizen को दिया तोहफा

आप सभी को यह जानकारी प्रदान कर दे की केंद्र सरकार के द्वारा इसकी जानकारी उनके आधिकारिक ट्वीट के जरिए दी गई है। उन्होंने आधिकारिक ट्वीट में यह लिखा है की वरिष्ठ नागरिकों के लिए पेंशन से संबंधित समस्याओं चिकित्सा सहायता की आवश्यकता, घरेलू उत्पीड़न, कानूनी मुद्दों पर जानकारी इसके अलावा किसी अन्य प्रकार की समस्या के लिए सहायता के जरूरत होने पर अब एल्डर लाइन नंबर पर कॉल कर सकते है। आपको बता दे की यह नंबर पूर्ण रूप से टोलफ्री है। इस नंबर पर कॉल करके आपको आपकी परेशानी का हल मिल जाएगा।

वरिष्ठ नागरिकों के लिए देश की पहली हेल्पलाइन जारी

हमारे व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

आप सभी को यह बता दे की केंद्र सरकार का यह कहना है की बुजुर्गों का अनुभव हमारे लिए खजाने के बराबर है। बुजर्गों को सामाजिक सुरक्षा के साथ साथ भावनात्मक सहारे की भी आवश्यकता है। इसलिए सरकार उनकी सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। अब किसी भी बुजुर्ग को घबराने की कोई भी आवश्यकता नही है। बुजुर्गों को किसी भी प्रकार की सहायता चाहिए। तो इसके लिए अब उनको चिंता करने की आवश्यकता नही है। अब किसी भी जरूरत के लिए वह इस टोल फ्री नंबर पर कॉल करके मदद मंगवा सकते है। जिसके बाद उनकी परेशानी का समाधान कर दिया जाएगा।

क्यो जारी किया गया यह नंबर

जैसा की हमने आप सभी को यह बताया है की केंद्र सरकार के द्वारा इस टोल फ्री नंबर की शुरुआत की गई है। आप सभी को यह जानकारी भी दे दें की भारत सरकार ने देश का पहला ऑल इंडिया टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर 14567 जारी किया है। जो की बिना परेशानी के देश के बुजुर्गों की मदद कर सकता है। इस अंबर को एल्डर लाइन का नाम दिया गया है।

आपको बता दे की इस नंबर के जरिए अब वरिष्ठ नागरिक अपनी पेंशन से सम्बन्धित समस्या का समाधान आसानी से मिल जाएगा। इसके साथ-साथ आप कानूनी सलाह भी ले सकेंगे। केवल यह ही नहीं बल्कि बुजुर्ग व्यक्ति घर बैठे-बैठे दुर्व्यवहार के मामले में भी मदद ले सकेंगे। यह हेल्पलाइन देश के सभी बुजुर्गों के लिए शुरू की गई है।

Latest NewsUAN Portal से मोबाइल नंबर कैसे बदलें?

UAN Login: UAN Portal से मोबाइल नंबर कैसे बदलें?

  • टोल फ्री नंबर- 14567
  • कार्य का समय- सुबह 8 बजे से रात 8 बजे
  • कार्य के दिन- सप्ताह के सातों दिन

सभी तरह की परेशानी होगी दूर

इस हेल्पलाइन को लॉन्च करने का मुख्य उद्देश्य यह है की सरकार देश के अधिकतम बुजुर्गों की परेशानी एवं चिंता को दूर कर सकें। इसके साथ साथ उनके जीवन में आ रही चोटी से बड़ी परेशानी से छुटकारा पा सकें। आपको बता दें कि इस हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत सबसे पहले टाटा ट्रस्ट की ओर से की गई थी।

2050 तक 20 फीसदी होगी बुजुर्गों की आबादी

आप सभी को यह भी बता दे की एक आंकड़े के अनुसार यह बताया जा रहा है की वर्ष 2050 तक देश में बुजुर्गों की आबादी 20 % तक होगी। आप सभी यह भी जानते होंगे की इस आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और कानूनी परेशानी काफी आम होती है।

इस हेल्पलाइन का मुख्य उद्देश्य देश के वरिष्ठ नागरिकों की मदद करना और उनकी समस्याओं का समाधान निकालना है। नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, 2050 तक बुजुर्गों की संख्या 50% तक पहुंच सकती है। जिससे उनकी सामाजिक सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर होगी। इसके लिए उचित प्लानिंग की आवश्यकता है।

बुजूर्गो की सामाजिक सुरक्षा राष्ट्र का कर्तव्य

सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में यह कहा है की बुजुर्गों और वरिष्ठ नागरिकों को भावनात्मक और मानसिक लगाव की आवश्यकता होती है। बुजुर्ग व्यक्ति अपने परिवार के साथ काफी सुरक्षित महसूस करते है। लेकिन आजकल एकल परिवार का चलन है। जिसके कारण बच्चे अपने माता पिता की सेवा नहीं करते हैं और न ही उनके साथ रहते है। इसलिए अब उनकी जिम्मेदारी सरकार की बनती है की बुजुर्गों के शोषण को रोका जाए और यह हर राष्ट्र का पहला कर्तव्य होना चाहिए की बुजुर्गों की सामाजिक सुरक्षा करें।

Latest Newsवेतन आयोग की सिफारिशें नहीं मानने पर 16 राज्यों के मुख्य और वित्त सचिव तलब

वेतन आयोग की सिफारिशें नहीं मानने पर 16 राज्यों के मुख्य और वित्त सचिव तलब

Leave a Comment

हमारे Whatsaap चैनल से जुड़ें