सुप्रीम कोर्ट ने कर्मचारियो व पेंशनधारकों को दिया तोहफा, आ गई बड़ी खुशखबरी, Recovery of Excess Payment पर सुप्रीम फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने कर्मचारियों और पेंशनधारकों को राहत देते हुए बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने निर्णय दिया कि सेवा के दौरान हुई अधिक भुगतान की वसूली रिटायरमेंट के बाद नहीं की जा सकती। जानें सुप्रीम कोर्ट के इस महत्वपूर्ण फैसले की पूरी जानकारी।

rohit

Written by Rohit Kumar

Published on

सुप्रीम कोर्ट ने कर्मचारियो व पेंशनधारकों को दिया तोहफा, आ गई बड़ी खुशखबरी, Recovery of excess Payment पर सुप्रीम फैसला

जैसा की आप सभी जानते ही की जब भी कोई सरकारी कर्मचारी रिटायर होता है। तो रिटायर होने पर उस कर्मचारी को पेंशन, ग्रेच्युटी, PF आदि जैसी चीजों का लाभ प्राप्त होता है। और जिस समय कोई सरकारी कर्मचारी रिटायर होता है। तो उस समय कर्मचारी को बहुत से फॉर्म भरने पड़ते है।

उन्हीं फॉर्म में से एक अंडरटेकिंग भी होता है। इस अंडरटेकिंग में स्वीकार किया जाता है की अगर आपको अधिक भुगतान कर दिया गया है तो सरकार उनसे वसूली कर सकती है। अधिकतर कर्मचारी इस प्रकार के फॉर्म भर तो देते है परंतु उनको यह नहीं पता होता है की कौन सा फॉर्म किस उद्देश्य से भरा गया है। इसी प्रकार से सरकार अधिक भुगतान की वसूली के लिए कर्मचारियों से अंडरटेकिंग ले लेती है।

क्या है पूरा मामला

हमारे व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

आप सभी को यह बता दे की अकसर यह देखा जाता है की सेवा के दौरान गलत फिक्सेशन या अन्य कारणों से अधिक भुगतान हो जाता है, तो सरकार के द्वारा उसकी वसूली की जाती है। जिसके लिए सरकार सभी कर्मचारियों से अंडरटेकिंग भी भरवाती है।

जिसमें कर्मचारी यह स्वीकारता है की अगर उनको अधिक भुगतान कर दिया गया है तो सरकार उसकी वसूली कर सकती है। कई कोर्ट मामलों में देखा गया है कि अगर गलती कर्मचारी की है, तो वसूली की जा सकती है। लेकिन अगर इसमें गलती विभाग या बैंक की है तो ऐसी स्थिति में वसूली नहीं की जा सकती है।

कोर्ट ने पेंशनधारक के पक्ष में सुनाया फैसला

आप सभी को यह बता दे की एक मामले में यह सामने आया है की जिसमें एक कर्मचारी को सेवा के दौरान गलत फिक्सेशन के कारण अधिक भुगतान मिल रहा था। उसके बाद जब वह कर्मचारी रिटायर हुआ तो उसको वसूली का आदेश मिल गया। तो ऐसे में कर्मचारी ने यह कहा की इसमें उसकी कोई भी गलती नहीं है क्योंकि फिक्सेशन से लेकर पेमेंट तक सब कुछ विभाग ही करता है। उसके बाद फिर उसने कोर्ट की तरफ रुख किया तो उसके बाद कोर्ट ने उसके पक्ष में ही फैसला सुनाया।

Latest NewsEPFO ने अब पेंशन, PF एवं बीमा स्कीम को लेकर बदले रूल... घटाई पेनाल्टी… जानिए किस पर पड़ेगा इसका असर?...

EPFO ने अब पेंशन, PF एवं बीमा स्कीम को लेकर बदले रूल... घटाई पेनल्टी… जानिए किस पर पड़ेगा इसका असर?...

सुप्रीम कोर्ट मे सरकार ने दी दलील

इस केस पर सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला सुनाया था की अगर सेवा के दौरान किसी कर्मचारी को गलती से अधिक भुगतान कर दिया गया है। तो रिटायरमेंट के बाद उसकी वसूली नहीं की जा सकती है। इसलिए रिटायरमेंट के बाद वसूली नही होनी चाहिए। सरकार ने इसके जवाब में कर्मचारियों द्वारा दी गई अंडरटेकिंग का हवाला दिया।

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा की अकसर पेंशन ग्रेच्युटी रुके न रहें, इसलिए दबाव में अंडरटेकिंग देते हैं। इसके साथ-साथ आओ सभी को यह बता दे की सुप्रीम कोर्ट ने ऐसी अंडरटेकिंग को मान्यता नहीं दी है। इसके बाद कोर्ट ने सरकार की अपील को खारिज कर दिया।

ऐसे ढेरो मामले लंबित है

रिटायरमेंट के बाद पेंशनधारक को अधिक भुगतान की वसूली के नोटिस मिलते रहते है। वकील के अनुसार, ऐसे कई मामले अदालत में लंबित हैं, जिन पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। आरबीआई ने इसके स्पष्ट निर्देश दिए है की यदि विभाग की गलती के कारण भुगतान हुआ है तो वह गलती रिटायरमेंट से 5 साल पहले पकड़ में आ जाती है, तो उसकी वसूली तुरंत करनी चाहिए। लेकिन जब व्यक्ति का रिटायरमेंट हो जाए तो उसके बाद किसी भी चीज की वसूली नहीं करनी चाहिए।

रफीक मसीह के केस में क्या था फैसला

आप सभी को यह बता दे की रफीक मसीह यानी के भारत संघ के मामले में पहले ही यह निर्णय ले लिया गया था की पेंशनधारक से अधिक भुगतान की वसूली नहीं की जा सकती है। इसी फैसले को आधार बनाकर इस मामले में भी सफलता प्राप्त हुई।

Latest Newsपेंशनभोगी की मृत्यु (Application for Pension after Death of Husband) के बाद पत्नी द्वारा फार्म 14 प्रस्तुत करने के ऊपर केंद्र सरकार ने दिया निर्देश

पेंशनभोगी की मृत्यु (Application for Pension after Death of Husband) के बाद पत्नी द्वारा फार्म 14 प्रस्तुत करने के ऊपर केंद्र सरकार ने दिया निर्देश

Leave a Comment

हमारे Whatsaap चैनल से जुड़ें