Budget 2024: मिडिल क्लास को टैक्स में मिल सकती है राहत, हर साल टैक्सपेयर्स के बचेंगे इतने पैसे

बजट 2024-25 में टैक्स छूट की सीमा को बढ़ाने से मिडिल क्लास टैक्सपेयर्स को राहत मिलेगी। इससे उनकी टैक्स देनदारी में कमी आएगी और बचत बढ़ेगी। विशेषज्ञों की राय है कि स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम पर छूट की सीमा को भी बढ़ाना चाहिए।

rohit

Written by Rohit Kumar

Published on

Budget 2024: मिडिल क्लास को टैक्स में मई सकती है राहत, हर साल टैक्सपेयर्स के बचेंगे इतने पैसे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जुलाई के दूसरे हफ्ते में बजट पेश करेंगी। इस बजट से टैक्सपेयर्स को काफी उम्मीदें हैं। सरकारी अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार, सरकार मिडिल क्लास को टैक्स में राहत देने पर विचार कर रही है। यह राहत नई टैक्स व्यवस्था के तहत आयकर रिटर्न भरने वाले टैक्सपेयर्स को मिलेगा। आइए जानते हैं कि अगर यह ऐलान हुआ तो इससे टैक्सपेयर्स को कितना फायदा हो सकता है।

नई टैक्स व्यवस्था (New Tax Regime)

नई टैक्स व्यवस्था को समझना जरूरी है। 2022 के बजट में सरकार ने नई टैक्स रिजीम को लॉन्च किया था। इस व्यवस्था में टैक्स दरें कम हैं, लेकिन इसमें टैक्स डिडक्शन और छूट नहीं मिलती। टैक्सपेयर्स नई और पुरानी दोनों व्यवस्थाओं में से एक चुन सकते हैं।

नई टैक्स रिजीम के तहत इनकम टैक्स स्लैब

आय (रुपये में)पुरानी व्यवस्था (छूट के साथ)नई व्यवस्था (कोई छूट नहीं)
3 लाख तकशून्यशून्य
3-6 लाख5%5%
6-9 लाख10%10%
9-12 लाख15%15%
12-15 लाख20%20%
15 लाख से अधिक30%30%

बजट 2024-25 से संभावित फायदे

हमारे व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

अगर सरकार बजट 2024-25 में आयकर छूट की सीमा को 3 लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करती है, तो इससे टैक्सपेयर्स को काफी राहत मिलेगी। जिनकी आय 7.6 लाख से 50 लाख रुपये तक है, उनकी टैक्स देनदारी में 10,400 रुपये (4% हेल्थ और एजुकेशन सेस सहित) की कमी होगी। वहीं, जिनकी आय 50 लाख से 1 करोड़ रुपये तक है, उनकी टैक्स लायबिलिटी में 11,440 रुपये (सेस और 10% सरचार्ज सहित) की कमी होगी।

1 करोड़ से 2 करोड़ तक की आय वाले लोगों को 11,960 रुपये का लाभ मिलेगा, जबकि 2 करोड़ से अधिक आय वालों की टैक्स लायबिलटी 13,000 रुपये तक कम हो जाएगी।

विशेषज्ञों की राय

विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार को स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम पर धारा 80D के तहत छूट की सीमा को बढ़ाना चाहिए। इससे स्वास्थ्य खर्चों में बढ़ोतरी के साथ यह समायोजित होगा। इसके अलावा, नई और पुरानी दोनों व्यवस्थाओं में बेसिक छूट की सीमा को बढ़ाना चाहिए ताकि महंगाई को ध्यान में रखा जा सके।

Latest NewsEPS-95 पेंशनभोगियों की 7500+DA और हायर पेन्शन में देरी के कारण क्या हैं?

EPS-95 पेंशनभोगियों की 7500+DA और हायर पेन्शन में देरी के कारण क्या हैं?

टैक्सपेयर्स को कितना होगा फायदा?

आइए देखते हैं कि अगर यह बदलाव लागू होता है तो टैक्सपेयर्स को कितना फायदा हो सकता है:

टैक्सेबल इनकम (रुपये में)टैक्स बचत (रुपये में)
7.6 लाख से 50 लाख10,400
50 लाख से 1 करोड़11,440
1 करोड़ से 2 करोड़11,960
2 करोड़ से अधिक13,000

अभी क्या करना चाहिए?

यदि आप इस टैक्स राहत का अधिकतम लाभ उठाना चाहते हैं, तो अपने निवेश और खर्चो की योजना अभी से बना लें। इससे आप नए बजट में होने वाले संभावित बदलावों के लिए बेहतर तरीके से तैयार रह सकेंगे। इसके अलावा, आप अपने टैक्स सलाहकार से संपर्क करके अधिक जानकारी और सलाह प्राप्त कर सकते हैं।

बजट 2024-25 में इनकम टैक्स छूट की सीमा बढ़ने की संभावना से मिडिल क्लास टैक्सपेयर्स को काफी लाभ मिल सकता है। इससे उन्हें अपने Financial Goals को प्राप्त करने में मदद मिलेगी और देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी।

Latest NewsBudget 2024 expectation: 8वां वेतन आयोग, ओल्ड पेंशन स्कीम और टैक्स छूट, मजदूर संगठनों की बजट से हैं ये मांगें

Budget 2024 Expectation: 8वां वेतन आयोग, ओल्ड पेंशन स्कीम और टैक्स छूट, मजदूर संगठनों की बजट से हैं ये मांगें

Leave a Comment

हमारे Whatsaap चैनल से जुड़ें